#Poem# Fear of Flight

“The sole sky shrieking and the stars are dim. The fainting clouds fall-off all around. The thirsty tempest trips me to tears. Hearing the howls of night, the only sound.” All these reasons that I blamed that hindered me and made me tame, barred me from the ‘Great Flight’, that is in my reach but … Continue reading #Poem# Fear of Flight

समाप्त करता हूँ…/ I end…

समाप्त करता हूँ… अब मैं समाप्त करता हूँ… वो सफर जिसके अनंत होने की कल्पना की थी। आपको तलाशते हुए मेरी निगाहें आप ही पर टिकी हुई थीं जब उलझ कर रह गए उन डोरियों में, जिन्हें थामे रखने की ज़िद थी।   कागज़ की कोशिशें लिये… वक्त की बारिशों में भी भीग गया। हम … Continue reading समाप्त करता हूँ…/ I end…